संस्कृत गोष्ठी


अवसर था "संस्कृत गोष्ठी" का।बड़े - बड़े दिग्गज संस्कृत में अपने विचार विमर्श करने मंच पर विराजमान थे।अब हम जैसे आम होकर भी खास लोग अपना मन बहलाने पहुंच गए वहाँ और बिना सोचे समझे कर बैठे टिप्पणी। अब हाल यह हुआ कि बात जरा बढ़ गई।अब हमने भी जोश में कह दिया कि भाषा अगर हिंदी होती तब बात ही क्या थी।अब क्या करें यह वार भी हमपर ही उल्टा पड़ गया और बात जरा बढ़कर हिंदी लिखने पर अटक गई।अब छूटने लगे हमारे पसीने।बिना समझ की टिप्पणी हमें ही लेकर डूबी। अब क्या कहें हमारी तो आम सी दास्तान ही ऐसी है कि-हिंदी लिखी नहीं जाती। अंग्रेजी बोली नहीं जाती। और संस्कृत समझ नहीं आती

Read More >

Category : Thoughts    04/03/2019


सच्चा देशभक्त : बास्को


यह एक सच्ची घटना है जो दो दशक पहले की है जब भारतीय सेना कश्मीरी घुसपैठियों के खिलाफ संघर्ष कर रही थी कारगिल सेक्टर के बेस कैंप में सेना के डॉग मास्टर मेजर नारायण राणा अपने सर्च डॉग बास्को के साथ रोज़ लैंडमाइंस की खोज पर जाया करते थे हर रोज़ के भांति उस रोज़ भी सर्द हवाएं चल रही थी सुबह के करीब 8 बजे थे और मेजर राणा अपने समझदार साथी बास्को के साथ गश्त पर थे सेना के इस समझदार डॉग की सूझबूझ ने कई बार बड़े हादसों को टाला था इसलिए सब उसकी काबिलियत पर काफी भरोसा करते थे उस दोपहर वहां से सेना के अफसरों का एक बड़ा काफिला गुज़रने वाला था इसलिए हर संभव सावधानी बरती जा रही थी कैंप के गेट के बाहर स्थानीय निवासी क़ादिर की चाय की दुकान थी जहा अक्सर जवान आया जाया करते थे क़ादिर सेना को संदिग्धों की मुखबिरी भी किया करता था इसलिए मेजर भी वहां अक्सर रुका करते थे और क़ादिर से उनकी अच्छी जमती थी उस रोज़ क़ादिर की दुकान पर एक अजनबी भी था और बातचीत में उसने मेजर से वहां रोज़गार के लिए आए होने की बात कही लेकिन आज हमेशा अपनी धुन में रहने वाला बास्को उसपर काफी भौक रहा था यह बात मेजर को भी अस्वाभाविक लगी लेकिन मेजर बास्को को लेकर वहां से चले गए बास्को बार बार क़ादिर की दुकान की तरफ बढ़ने की कोशिश करता लेकिन मेजर राणा को लगा कि शायद बास्को की दिलचस्पी वहां रखे बिस्किटों में है कैम्प पहुँच मेजर ने उसे बाँध दिया और पोस्ट पर चले गए लेकिन बास्को लगातार भौकता रहा घंटो की मशक्कत के बाद बास्को वहां से अपनी चेन तुड़वा कर भाग निकला और सीधा क़ादिर की दुकान की तरफ बढ़ा उसे लग रहा था कि वहां कुछ तो गड़बड़ ज़रूर है जैसे ही वह गेट की पास पहुंचा तो उसने देखा कि क़ादिर उस अजनबी के साथ मिलकर पूरे क्षेत्र में विस्फोटकों का जाल बिछवा चुका था और थोड़ी ही देर में सेना का काफिला वहां पहुँचने वाला था बास्को वतन को संकट में देख बिना वक्त गवाये उस अजनबी पर टूट पड़ा और उसकी गर्दन पर अपने दांत गड़ा दिए यह देख गद्दार क़ादिर ने उसपर चाक़ू से कई वार किए लेकिन उसने अपने दांतो के घातक वार से उस आतंकी को अधमरा कर दिया और पूरी ताक़त बटोर क़ादिर पर टूट पड़ा और उसे अपनी मज़बूत पकड़ से रोके रखा सेना के काफिले में सबसे आगे चल रहे लेफ्टिनेंट शिंदे ने संदिग्धों को दूर से देख फौरन काफिले को रोक दिया और जब सेना की एक पैदल टुकड़ी वहां पहुंची तो उन्होंने देखा कि दोनों गद्दार विस्फोटकों के ढेर के बीच अचेत पड़े हुए हैं और अपनी आखरी साँस तक लड़ने वाला सेना का वफादार बास्को शहीद हो गया है लेकिन उसने सैकड़ो सैनिकों की जान बचा ली लेफ्टिनेंट साहब ने बड़े गंभीर स्वर में कहा कि *आज इस बेज़ुबान ने साबित कर दिया कि इंसानो से कहीं बेहतर जानवर हैं जिनमे इंसानो से कहीं ज़्यादा इंसानियत हैं* अगर बास्को एक कुत्ता न हो के कोई इंसान होता तो शायद वीरता की इस अनोखी शौर्यगाथा को दुनिया के सामने आने में 20 साल का समय नही लगता

Read More >

Category : Thoughts    02/03/2019


Statue of unity –emblem of nation’s integrity


The statue of unity is 182 meter which is two times of statue of liberty constructed on River Island facing the Narmada dam(sardar sarovar dam) was designed by Indian sculptor Ram.v.sutar and was dedicated by pm Narendra modi on 31st October 2018, the 143rd anniversary of patels birth for inspiring youth. But we should be clear what he motivates us for, working towards fulfillment of his incomplete dream a vision of unified, intact and robust India. If he had enough time and authority his vision could have implemented but now it’s our time to pay real tribute to a man who neglected an opportunity of  becoming first prime minister by fulfilling his dreams at least for sake of our welfare. 

A bold and resolute man with a strong esteemed heart sardar vallabh bhai patel known as “iron man of India” with a dream of unified India contributed his life for our country. He worked without any expectation of prestige my only question would be is it significant enough to construct a statue to give homage to a personality who dedicated his life to our country.

It is said ‘Where there is no vision there is no hope’ Sardar vallabh bhai patel not only had vision but had ability of its fulfillment. At the time of huge disparity among states he united them with prudence. Politics is well known for unfulfilled promises but sardar vallabh bhai patel not only promised for intact and robust India but also proved by his action. Upon  hearing of  Mohandas karamchand Gandhi, he joked to the lawyer and political activist, ganesh  vasudev mavlankar, that  “Gandhi would ask you if you know how to shift pebbles from wheat and this is supposed to bring independence” at the times of struggle for independence.

Statue of unity is definitely a remark of respect towards vallabh bhai patel whose effort were not given enough recognition he deserved and also of great significance for tourism. A man who was known for being philanthropic and fine-grained. But is construction of a statue of 2989 crore enough? We should give this question a thought.

Read More >

Category : Thoughts    02/01/2019


Adultery: Not a crime anymore.


On 27 September 2018, Supreme court of India striked out 158 years old section 497 of the Indian Penal Code and declared it to be unconstitutional. CJI Deepak Mishra in his judgment said that any provision of law affecting individual dignity and equality of women invites wrath of the constitution.

Section 497 punished a married man on having a sexual relationship with the wife of another man without the consent or connivance of her husband.
Also, the wife was exempted from the punishment. It is interesting to know that the draft of the law commission for penal code in 1847 said keeping in mind the situation of women in this country, and for their respect, we will punish the male offender only.
The section 497 clinges to the British Victorian Morality ideas and is the mirror to the patriarchal society of that time. Specifically, ‘choosing what to exclude is more important than what to include.’ With the space, we come to realize that the existence of such an archiac law in our constitution is irrational. The section 497 undoubtedly is gender bias. It mentions ‘wife of another man’ which gives us the conception that a married man having sex with an unmarried women will not be committing adultery. It does not give the right to the wife to claim being cheated by her husband.

On the question of exempting women from punishment, it treats women to be weak, fragile and helpless. It says that they are the victim, seduced by the man for such an act. Joseph shiny in his public litigation challenged section 497 of IPC and section 198(2) of CrPC and argued that today’s women are stronger. Exemption from punishment is breaching the right to equality. This step of the Supreme Court is surely remarkable, better late than never. In democracy, banning is never a solution.

It is the people who decide what to choose in their lives. The right over one’s own body cannot be taken away by any marriage or alliance. Therefore the very existence of this law violates the fundamental right to life and to live with dignity. Moreover, a marriage should sustain on mutual trust, the strength of loyalty, respect and love, and not out of the fear of punishment.

Read More >

Category : Nostalgia    02/01/2019


copyright © 2018-19 Developed by Team UDAAN